जम्‍मू-कश्‍मीर: भीड़ ने कॉन्‍स्‍टेबल को पीट-पीटकर किया अधमरा, जान जोखिम में डाल ASP ने बचाई जिंदगी///PM Modi ने दो लाइन में कर दिया विपक्ष का पटाक्षेप////मोदी सरकार के खिलाफ अविश्‍वास प्रस्‍ताव गिरा, सरकार के पास 325 का आंकड़ा///President addresses annual convocation of IIT Kharagpur//// J P Nadda addresses 8th BRICS Health Ministers’ Meeting at Durban///मलिक और राजकुमार सैनी दोनों गैर जिम्मेदार: कैप्टन////राहुल की 'झप्पी' पर भड़कीं लोकसभा स्पीकर, बोलीं- यह सदन की गरिमा के खिलाफ है////मुजफ्फरपुर अल्पावास गृह मामले में खुलासा, 29 नाबालिग बच्चियों से दुष्कर्म की हुई पुष्टि///
Home | Latest Articles | Latest Interviews |  Past Days News  | About Us | Our Group | Contact Us
भारत में कमाया गया धन विदेशी बैंकों में क्यों?


लखनऊ : बहुजन समाज पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने केंद्र की मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए रविवार को सवाल उठाया कि भारत में कमाया गया धन विदेशी बैंकों में क्यों है? उन्होंने कहा कि स्विट्जरलैंड के बैंकों में जहां विश्वभर के बड़े-बड़े पूंजीपति व धन्नासेठ अपना धन रखने को अपनी शान समझते हैं, वहां बीजेपी के चहेते भारतीय पूंजीपतियों के धन में 50 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, तो क्या इसका श्रेय बीजेपी एंड कम्पनी व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार लेना पसंद नहीं करेगी?

बीएसपी प्रमुख ने कहा कि वैसे तो मीडिया का कहना है कि कालाधन पर अंकुश लगाने की मोदी सरकार के दावों की इससे पोल खुल गई है, मगर जनहित का प्रश्न यह है कि भारतीय धन्नासेठों के धन में इतनी ज्यादा वृद्धि कैसे व कहां से हुई है तथा इस संबंध में केंद्र सरकार की नीयत, उनकी नीति व बड़े-बड़े दावों का क्या हुआ? क्या इसीलिए बीजेपी की केंद्र व राज्य सरकारें प्राइवेट सेक्टर को अंधाधुंध बढ़ावा दे रही हैं, जहां समाज के उपेक्षितों, दलितों, पिछड़ों आदि की हमेशा से उपेक्षा व तिरस्कार है.

मायावती ने स्विस बैंकों में भारतीयों के जमा धन में 50 प्रतिशत की वृद्धि के चर्चित विषय पर आईपीएन को भेजे अपने एक बयान में कहा कि क्या नरेंद्र मोदी सरकार यह अपराध स्वीकार करने को तैयार है कि विदेशों में जमा देश का कालाधन वापस लाकर उसे देश के प्रत्येक गरीब परिवार के हर सदस्य को 15 से 20 लाख रुपये देने के उसके चुनावी वायदे पूरी तरह से गलत व छलावा साबित हुए हैं(updated on July 1st, 2018)

=============