Voting concludes for 3rd phase across 13 states///Colors of democracy on display during 3rd phase LS Polls////PM addresses two rallies in Odisha, one in West Bengal, holds road show in Ranchi////Islamic State claims responsibility for serial bomb blasts in Sri Lanka///राजनाथ सिंह ने कहा, '2023 तक हो जाएगा नक्सलियों का खात्मा'//VP Naidu addressed Convocation IIIT Sri City///भोपाल से मौजूदा सांसद आलोक संजर ने भी भरा पर्चा, जानें BJP ने क्यों उतारा डमी कैंडिडेट////लोकसभा चुनाव 2019: जानें दिल्ली के उम्मीदवारों में कौन हैं सबसे ज्यादा अमीर/////SC issues criminal contempt notice to Rahul Gandhi////गुरुदासपुर लोकसभा सीट पर कांग्रेस के सामने 'ढाई किलो के हाथ' की चुनौती///
Home | Latest Articles | Latest Interviews |  Past Days News  | About Us | Our Group | Contact Us
BJP ने कहा- कश्मीर में खत्म होगी धारा 370, पाकिस्तान
BJP ने कहा- कश्मीर में खत्म होगी धारा 370, पाकिस्तान -किसी भी हालत में नहीं होने देंगे


इस्लामाबाद: पाकिस्तान ने कहा कि वह कश्मीर में भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को रद्द किया जाना स्वीकार नहीं करेगा क्योंकि यह संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन है. अनुच्छेद 370 जम्मू कश्मीर के संबंध में एक “अस्थायी प्रावधान” है. यह केंद्रीय एवं समवर्ती सूचियों के तहत आने वाले विषयों पर कानून बनाने की संसद की शक्तियों को सीमित कर संविधान के विभिन्न प्रावधानों की व्यावहारिकता पर रोक लगाता है. पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता मोहम्मद फैसल ने कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द किए जाने के मुद्दे पर शुक्रवार को संवाददाताओं से कहा कि यह संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन होगा.

उन्होंने कहा, “भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 को खत्म करना संयुक्त राष्ट्र के प्रस्तावों का उल्लंघन है. हम इसे किसी भी परिस्थिति में स्वीकार नहीं करेंगे और कश्मीर के लोग भी इसे स्वीकार नहीं करेंगे.” गौरतलब है कि बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं ने राज्य में अनुच्छेद 370 को हटाने के प्रति पार्टी की प्रतिबद्धता बार- बार दोहराई है.

भारतीय संविधान का अनुच्छेद 370 एक `अस्‍थायी प्रबंध` के जरिए जम्मू और कश्मीर को एक विशेष स्वायत्ता वाला राज्य का दर्जा देता है. भारतीय संविधान के भाग 21 के तहत, जम्मू और कश्मीर को यह `अस्‍थायी, परिवर्ती और विशेष प्रबंध` वाले राज्य का दर्जा हासिल होता है. भारत के सभी राज्यों में लागू होने वाले कानून भी इस राज्य में लागू नहीं होते हैं. मिसाल के तौर पर 1965 तक जम्मू और कश्मीर में राज्यपाल की जगह सदर-ए-रियासत और मुख्यमंत्री की जगह प्रधानमंत्री हुआ करता था..(Updated on April 6th, 2019)