मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, 30 लाख कर्मचारियों को मिलेगा श्दिवाली गिफ्टश्////जम्मू-कश्मीर में पंचायती राज कानून एवं 12 लाख टन सेब के खरीद को मंजूरी///कांग्रेस के स्टार प्रचारक नदारद, भाजपा ले रही बढ़़त///Dr Jitendra Singh new Chairman, attends meeting of IIPA///Union Minister for MSME launches Unique Khadi Footwear; KVIC Targets Rs 5000 Crore Business///Dr. Harsh Vardhan discusses implementation of Prime Minister’s Jan Andolan with Madhya Pradesh//ECI constitutes committee to examine issues concerning expenditure limits///एसबीआई के होम लोन पर ब्याज दर में 0.25 प्रतिशत तक छूट///असम-मिजोरम के बीच गृह सचिव स्तर की वार्ता, सीमा से जुड़े मसलों पर बातचीत///प्रधानमंत्री ने पुलिस शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित की////PM Modi's telephonic conversation with President Moon Jae-in of the Republic of Korea/// महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने जांच के लिए सीबीआई ( को दी गई आम सहमति को वापस लिया ////
Home | Latest Articles | Latest Interviews |  Past Days News  | About Us | Our Group | Contact Us
粉嫩公主酒酿蛋不仅加入了泰国丰胸圣品野葛根提取物丰胸产品,还利用国家冻干技术,最大程度的保留了其食物的成分,效果较之传统酒酿蛋好三倍不止,并且只针对胸部发育研究产后丰胸,不长胖,不上火,没有副作用。还受邀了“康熙来了”、“美丽俏佳人”、“影视风云”、“女人我最大”等多个电视节目丰胸方法,还有明星小S,左永宁,母其弥雅等人顶力推荐,群众的眼睛果然是雪亮的丰胸达人,大家都说的好的产品自然是好的。
सांसद डॉ वीरेन्द्र ने खाद का कारखाना

सांसद डॉ वीरेन्द्र ने खाद का कारखाना स्थापित करने की उठाई मांग

नई दिल्ली । टीकमगढ़ के सांसद डॉ वीरेंद्र कुमार ने संसदीय क्षेत्र अंतर्गत रासायनिक खाद के कारखाने की स्थापना की मांग उठाई है। इसके संबंध में उन्होंने ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा को पत्र लिखा है।
डॉ वीरेंद्र कुमार ने पत्र में उल्लेख किया कि संसदीय क्षेत्र टीकमगढ़ अंतर्गत टीकमगढ़ छतरपुर एवं निवाड़ी जिला कृषि प्रधान क्षेत्र हैं क्षेत्र के निवासी अपने पूर्वजों के जमाने से पीढ़ी दर पीढ़ी कृषि कार्य करते आ रहे हैं तथा यहां की अधिकांश जनता कृषि पर ही निर्भर है और आजीविका का इनके पास दूसरा कोई साधन नहीं है। यहां के कृषक अपने परिवार का भरण पोषण , शादी विवाह एवं अपने बच्चों की शिक्षा दीक्षा के खर्च हेतु अपनी कृषि भूमि में हुए अनाज की पैदावार की बिक्री कर उससे प्राप्त मूल्यों पर ही निर्भर हैं इन सभी का निर्वहन करते करते कृषकों को इतनी असुविधाओं का सामना करना पड़ता है कि अपने परिवार का भरण पोषण शादी विवाह एवं बच्चों की शिक्षा दीक्षा का कार्य समय पर नहीं कर पाते हैं और आर्थिक रूप से विषम परिस्थितियों से गुजरना पड़ता है।

(updated on september 20th, 20202)
==================