PM Modi & Chinese President hold delegation-level talks on day 2////14th Annual convention of the Central Information Commission held///SARAS Aajeevika Mela Inaurated at India Gate Lawns///First Ever 'India International Cooperatives Trade Fair' inaugurated ///Salman Khurshid attacks critics, says Rahul Gandhi should return as Congress president////PM Modi collected plastic waste to clean beach in Mamallapuram ////
Home | Latest Articles | Latest Interviews |  Past Days News  | About Us | Our Group | Contact Us

Today's Special in Detailed
आदिवासियों की इस तकनीक के सहारे कमलनाथ सरकार ने बनाया नोबल अवार्ड जीतने का प्लान
भोपाल: कमलनाथ सरकार अब वो प्लान तैयार कर रही है, जिस रास्ते पर चलते हुए चीन जैसे देश ने नोबल अवार्ड हासिल कर लिया था. हम बात कर रहे हैं, चीन की उस मेडिसिन की जिसके आधार पर उसे नोबल अवार्ड मिल गया था. चीन के स्थानीय ग्रामीणों द्वारा उपयोग किए जाने वाले छिंगहाओसू नाम के एक औषधीय पौधे से मलेरिया जैसे रोगों की रोकथाम की जाती थी. चीन ने दुनिया को वैज्ञानिक तौर पर इसकी खासियतें बताईं, तो उसे नोबल अवार्ड से नवाजा गया. अब कमलनाथ सरकार उसी राह पर आगे बढ़ रही है, यहां ऐसी औषधियों की खोज हो रही हैं जो युगों से आदिवासियों की बीमारियों को ठीक कर रही हैं. लेकिन, अब तक उसे दुनिया में पहचान नहीं मिली है. यदि सब कुछ ठीक रहा तो चीन की तरह मध्य प्रदेश भी नोबल अवार्ड का हकदार बन सकता है.

मुख्यमंत्री कमलनाथ के निर्देश पर सरकार के आयुष विभाग ने शासकीय खुशीलाल आयुर्वेदिक महाविद्यालय को इस रिसर्च का जिम्मा दिया है. इसके पीछे सोच ये है कि मध्य प्रदेश की नर्मदा घाटी में कई औषधीय विशेषताएं हैं. यहां कई जड़ीबूटी का इस्तेमाल आदिवासी कर रहे हैं. लेकिन अब तक आयुर्वेद में इसकी गणना नहीं हो पाई है. नर्मदा घाटी का अमरकंटक इलाका, मंडला की पहाड़ियों, पचमढ़ी की पहाड़ियों समेत सतपुड़ा का जंगल, पेंच की वन्य संपदा, बैतूल छिंदवाड़ा का ताप्ती घाट, महेश्वर, जामगेट, झाबुआ, अलीराजपुर के कई ऐसे जंगल हैं जहां आदिवासी और ग्रामीण जंगलों की जड़ी बूटियों के इलाज पर ही निर्भर हैं. स्थानीय ग्रामीण इन्हें अचूक औषधि मानते हैं. मध्य प्रदेश की इन्हीं घाटियों में मौजूद मेडिसिनल प्लांट पर कॉलेज की स्पेशल टीम वैज्ञानिक अनुसंधान करेगी और निष्कर्ष को दुनिया तक पहुंचाएगी.

चीन के ग्रामीण इलाकों में छिंगहाओसू औषधि का उपयोग कर मलेरिया जैसी बीमारियों से सदियों से लोग ठीक होते रहे हैं. चीन के छिंगहाओसू पौधे में वैज्ञानिकों ने मलेरिया के प्लास्मोडियम फाल्सीफैरम को जड़ से खत्म करने का गुण पाया गया था. इस पौधे में मौजूद आर्टीमिसनिन नामक तत्व की वजह से ये खासियत इसे औषधीय पौधा बनाती है. 1984 में ये पौधा भारत में लाया गया जिससे मलेरिया जैसे रोगों का कारगर उपचार शुरू हो सका.
(UPDATED ON OCTOBER 8TH 2019)