Prime Minister’s Awards for Outstanding Contribution for Promotion and Development of Yoga - 2018////शहीद औरंगजेब का परिवार देश के लिए प्रेरणा///यूपी तक फैला कश्मीर के पत्थरबाजों का जाल, नौकरी के नाम पर दी जाती थी ट्रेनिंग///Vice President receives the Book ‘Vedvigyan Alok’////Sanskrit to be used for future supercomputers: Hegde////PM Modi interacts with farmers on issues concerning them////Multi-Pronged Reforms Needed In Higher Education: Shashi Tharoor
Home | Latest Articles | Latest Interviews |  Past Days News  | About Us | Our Group | Contact Us

Today's Special in Detailed
संसदीय क्षेत्र चांदनी चौक में पिछले चार वर्षों में विकास के अभूतपूर्व कार्य हुए
संसदीय क्षेत्र चांदनी चौक में पिछले चार वर्षों में विकास के अभूतपूर्व कार्य हुए हैं। भारत सरकार केरेल मंत्रालय, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, संस्कृति मंत्रालय, ऊर्जा मंत्रालय, शहरी विकास मंत्रालय, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय, संचार एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय सहित दिल्ली विकास प्राधिकरण के सहयोग व सांसद निधि के जरिए क्षेत्र में विभिन्न विकास कार्य संपन्न कराए गए हैं। इसके लिए मैं भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों और दिल्ली विकास प्राधिकरण व उनके अधिकारियों का तहेदिल से शुक्रिया अदा करता हूं।
रानी झांसी फ्लाईओवर औरजहां झुग्गी, वहीं पक्का मकान योजना के अंतर्गत जेलरवाला बाग, अशोक विहार में निर्मित 1675 मल्टीस्टोरी मकान का कार्य निकट भविष्य में पूरा कर लिया जाएगा। इसके अलावा वर्ष 2017-18 में करीब 237 परियोजनाओं के लिए मैंने अपनी सांसद निधि से कोष जारी कर दिया है। इनमें विभिन्न स्थानों पर ओपन जिम, पार्क का नवीनीकरण, बच्चों के लिए पार्कों में खेल के उपकरण, हाई मास्ट लाइटों की व्यवस्था, सड़कों की मरम्मत, ट्यूबवेल, फुटपाथ का निर्माणके साथ विभिन्न विकास के कार्य हैं।
कुछ महत्त्वपूर्ण कार्यों की सूचीः
- क्षेत्र का सबसे बड़ा रानी झांसी फ्लाई ओवर का कार्य आगामी अगस्त महीने तक पूर्ण हो जाएगा।
- गांधी मैदान पार्किंग को सात मंजिला पार्किंग में तब्दील करने की अनुमति दिलवाई। यहां 2400 वाहनों को रखा जा सकेगा। इसके अलावा क्षेत्र में 13 स्टैक और 7 मल्टीलेवल पार्किंग के निर्माण की योजना है।
- सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत गोद लिए गए गांवों में विभिन्न विकास कार्य।
- कौशल विकास योजना के तहत प्रशिक्षण केंद्र स्थापित किए गए।
- विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग की ईजाद सूर्यज्योति योजना के तहत सेवा बस्तियों को किया गया रौशन।
- उज्ज्वला योजना के तहत श्रीराम चौक, वजीरपुर औद्योगिक क्षेत्रों में निःशुल्क गैस कनेक्शन प्रदान किए गए।
- नई दिल्ली रेलवे स्टेशन, पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन, सराय रोहिल्ला रेलवे स्टेशन और सब्जी मंडी रेलवे स्टेशनों में विभिन्न विकास कार्य कराए गए। वहीं, शकूरबस्ती रेलवे स्टेशन केपुनिर्विकास का कार्य लगभग पूरा हो चुका है।
- काफी समय से लंबित रामपुरा अंडरपास जनता को समर्पित। (इससे रामपुरा, केशवपुरम, डीसी आफिस आवागमन करने वाले लोगों को सुविधा होगी।
- 50 से अधिक ओपन जिम स्थापित किए जा चुके हैं औरकरीब 80 और ओपन जिम स्थापित किए जाने की योजना है। वहीं डीडीए के सहयोग से 35 और ओपन जिम लगाए जाएंगे।
- रानीबाग एवं राजधानी एन्क्लेव में नया डाकघर स्थापित।
- स्कूलों में नए भवनों का निर्माण, स्वीमिंग पूल एवं लैब का निर्माण, नए ब्लॉक का निर्माण सहित विभिन्न विकास कार्य कराए गए।
- 31 स्थानों पर निःशुल्क शिविर लगाकर आंख-कान की जांच व मोतियाबिंद का ऑपरेशनकिया गया और मरीजों को चश्मा व श्रवणयंत्र वितरित किए गए। जबकि 1978 दिव्यांगोंको 2.78 करोड़रुपएकेउपयोगीउपकरण वितरित किए गए।

गांधी मैदान बहुमंजिला पार्किंग
क्षेत्र में वाहनों की पार्किंग की समस्या के मद्देनजर गांधी मैदान पार्किंग को सात मंजिला पार्किंग में तब्दील करने की अनुमति दिलवाई। बहुमंजिला पार्किंग परियोजना से एक साथ 2400 वाहनों को रखा जा सकेगा। इस परियोजना को 20 अगस्त 2020 तक पूरा करने का लक्ष्य है। वहीं क्षेत्र में और 13 स्टैक लेवल पार्किंग व 7 मल्टी लेवल पार्किंग के निर्माण की योजना है।
पार्किंग स्थलों की सूचीः
स्टैक पार्किंगःएलएनजेपी हॉस्पिटल, सलीमगढ़ फोर्ट, हनुमान सेतु, हनुमान सेतु के निकट, फतेहपुरी, ईदगाह रोड, जामा मस्जिद, प्रताप नगर मेट्रो स्टेशन, मुखर्जी नगर, नानीवाला बाग, बीक्यू ब्लॉक (शालीमार बाग), बीडब्ल्यू ब्लॉक शालीमार बाग, बीएन ब्लॉक शालीमार बाग और निगम बोध घाट।
मल्टीलेवल पार्किंगः शिव मार्केट (पीतमपुरा), गांधी मैदान, संतनगर (रानीबाग), ईदगाह रोड, यूएंडवी ब्लॉक, शालीमार बाग, एसी ब्लॉक शालीमार बाग और मादीपुर मेट्रो स्टेशन
अन्य विकास कार्यों के तहतअब तक क्षेत्र में 1500 आरसीसी बेंच लगाए जा चुके हैं और 1052 के प्रस्ताव हैं। अब तक 40 हाई मास्ट लाइटें लगाई जा चुकी हैं और 184 के प्रस्ताव दिए जा चुके हैं। वहीं, डीडीए के तीन एकड़ से बड़े पार्कों में दो हाईमास्ट लाइटें लगाई जाएंगी। इसबीच डीडीए के जिला पार्कों में स्टील के बेंच और स्टील के डस्टबिन लगाने की योजना पर कार्य शुरू हो चुका है। वहीं क्षेत्र में सभी स्थानों पर साल के अंत तक एलईडी बल्ब लगाने की योजना है, जिसका 60 फीसदी कार्य संपन्न हो चुका है।

चार वर्षों में किए गए विकास कार्यों की एक झलक

रानीझांसी फ्लाईओवर
सदर बाजार वॉल्ड सीटी का पूरा इलाका घनी आबादी वाला है। इसमें फिल्मिस्तान से लेकर तीस हजारी तक एक फ्लाईओवर के निर्माण की योजना वर्षों पूर्व बनी थी, लेकिन विभिन्न कारणों की वजह सेफ्लाईओवर के निर्माण का कार्य ठप पड़ा था।सांसद बनने के बाद इस कार्य को शीघ्र पूरा करवाने के लिए मैंने संबंधित अधिकारियों के साथ अनेक बैठकें कीं। विभिन्न मंत्रालयों के साथ संपर्ककर इस कार्य को पुनः प्रारंभ कराया। उत्तरी दिल्ली नगर निगम की आर्थिक स्थिति ठीक न होने के कारण इस कार्य ने फिर दम तोड़ना प्रारंभ कर दिया था। मैंने केंद्र सरकार के शहरी विकास मंत्रालय के साथ बैठक की और इस प्रोजेक्ट के लिए धनराशि उपलब्ध कराने का अनुरोध किया। मेरे अनुरोध पर शहरी विकास मंत्रालय ने 85 करोड़ रुपए इसके लिए स्वीकृत किया, जिसमें से62 करोड़ रुपए अब तक जारी किए जा चुके है। यह फ्लाईओवर सेन्ट्रल दिल्ली से नॉर्थ दिल्ली और पश्चिमी दिल्ली को जोड़ता है। जहां से लगभग तीन से चार लाख वाहन प्रतिदिन गुजरते हैं। इस फ्लाईओवर के पूर्ण हो जाने पर आवागमन करने वाले लोगों को बड़ा लाभ मिलेगा। आगामी अगस्त महीने तक यह कार्य पूरा हो जाएगा।
रेलवे स्टेशनों पर विकास कार्यः रेलवे स्टेशन को अत्याधुनिक एवं सभी सुविधाओं से सुसज्जित करने के लिए रेलवे मंत्रालय के साथ अनेक बैंठकें कीं। फलस्वरूप विकास कार्यों का एक कीर्तिमान स्थापित हुआ।
नई दिल्ली रेलवे स्टेशनः रेलवे स्टेशन की पार्किंग एवं उसके समीप के क्षेत्र में आर.एम.सी की रोड और फुटपाथ का निर्माण, 9 करोड़ रुपए की लागत से प्रतीक्षा गृह का जीर्णोद्धार, यात्रियों की बढ़ती संख्या एवं उनकी सुविधाओं को ध्यान में रखते हुएएकनए प्रतीक्षा गृह का निर्माण, यात्रियों की सुविधा हेतु 8 करोड़ की लागत से 16 नई स्वचालित सीढ़ियां (एस्केलेटर) स्थापित, नई दिल्ली स्टेशन पर वाई-फाई कनेक्शन की व्यवस्था,स्टेशन के पूरे परिसर में एल.ई.डी लाइट एवं एल.ई.डी हाई मास्ट लाइट लगाई गई,यात्रियों को स्वच्छ एवं शीतल जल उपलब्ध कराने हेतु 16 नई मशीनें स्थापित की गईं, 6 कैश स्मार्ट कार्ड ऑपरेटेड ऑटोमेटिक टिकट वेंडिंग मशीन लगाई गईं,बिजली की निर्बाध आपूर्ति हेतु 7 सब-स्टेशनों के नियंत्रण के लिए ट्रांसफार्मरका नियंत्रण कक्ष एवं 11 के.वी के विद्युत गृह की स्थापना के साथ ही यात्रियों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए कई अन्य काम भी कराए गए।
पुरानी दिल्लीरेलवे स्टेशनः पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन पर आवागमन की सुविधा हेतु हेमिल्टन रोड, कश्मीरी गेट की तरफ से रास्ते का निर्माण और इस द्वार के रास्ते पर नियंत्रण, पूछताछ व प्रतीक्षा कक्ष का निर्माण।इसके अलावा 6 नई स्वचालित सीढ़ियों का निर्माण कार्य यहां प्रगति पर है, 35 लाख रुपए की लागत से 3 सामूहिक शयन कक्ष का जीर्णोद्धार, 1.7 करोड़ की लागत से प्लेटफॉर्म संख्या 16 का पुनर्निर्माण, आधुनिक तकनीक से इस प्लेटफॉर्म की साफ-सफाई की व्यवस्था करवाई गई।ऑटोमैटिक टिकट वेंडिंग मशीन की व्यवस्था, स्टेशन पर शयनकक्षों का पुनरोद्धार किया गया।, दिव्यांग जनों के निर्बाध आवागमन के लिए मार्ग सहित स्टेशन को उनके अनुकूल बनाया गया, इसके अलावा भी कई अन्य कार्य संपन्न कराए गए हैं। सराय रोहिल्ला रेलवे स्टेशनऔर सब्जी मंडी रेलवे स्टेशन में भी विभिन्न कार्य संपन्न कराए गए।
शकूर बस्ती रेलवे स्टेशन के पुनर्विकास का कार्य लगभग पूरा होने वाला है। यहां से पंजाब, हरियाणा, जम्मू-कश्मीर, राजस्थान के लिए ट्रेनों का आवागमन होगा।
रेलवे कॉलोनियों में विकास कार्य
रेलवे स्टेशनों के साथ-साथ रेलवे कॉलोनियां दिल्ली के विभिन्न भागों में बनाई गई हैं। इन आवासीय कॉलोनियों में मकानों के पुनर्निर्माण/मरम्मत एवं उसमें अन्य सुविधाओं की आवश्यकता काफी समय से कालोनीवासी महसूस कर रहे थे। निरीक्षण के दौरान पाया कि ये कार्य प्राथमिकता के आधार पर होने चाहिए। अतः इस निमित्त कई बैठकों के माध्यम से योजना बनाकर हमने अनेक कार्य कराए हैं, जिनमें से कुछ प्रमुख कार्यों का उल्लेख इस प्रकार हैःरेलवे कॉलोनी-40 फ्लैट, सदर बाजार, 300 मीटर रोड कीमरम्मत का कार्य संपन्न, शौचालय के लिए ट्यूबवेल के पानी की आपूर्ति, जल की आपूर्ति को सामान्य किया गया, नए डस्टबिन उपलब्ध कराए गए, ब्लॉक 95, 96, 97 की खराब सीवर लाइन को बदला जा रहा है, टी-51, टी-22 तथा टी-24 ब्लॉक की छतों की मरम्मत का कार्य संपन्न हो चुका है और सभी पोल पर स्ट्रीट लाइट लगाई गईं।
स्कूल भवन का निर्माणः देश के नौनिहालों के भविष्य के निर्माण में स्कूलों की अहम भूमिका होती है। बच्चों को स्कूलों में सभी आवश्यक सुविधाएं प्राप्त हों, इसके लिए मैं हमेशा तत्पर रहा और यथायोग्य सहायता की।
सहायता प्राप्त कुछ स्कूलों की सूची निम्नलिखित है-
· प्राइमरी स्कूल, गुजरांवाला टाउन।
· प्राइमरी स्कूल, मॉडल टाउन-2।
· एम.सी प्राइमरी स्कूल, ललिता ब्लॉक, शास्त्री नगर।
· कदम शरीफ स्कूल, झंडेवालान।
· प्रतिभा विद्यालय, ए-5 पश्चिम विहार।
· एम.सी प्राइमरी स्कूल, अशोक विहार फेज-3।
· प्राइमरी स्कूल, सी.पी ब्लॉक पीतमपुरा।
· न्यू बिल्डिंग प्राइमरी स्कूल, भंडोलाउद्यान पंचवटी, आजादपुर।
· एम.सी प्राइमरी स्कूल, मुल्तान नगर, पश्चिम विहार।
· सी एवं डी ब्लॉक, शालीमार बाग स्कूल (निर्माणाधीन)।
· हैदरपुर में लड़कियों के एम.सी प्राइमरी स्कूल की आधारशिला रखी गई।
· सूरज कुंज, केशवपुरम में ब्लॉक सी-7 में, नव निर्मित एम.सी. प्राइमरी नगर निगम स्कूल का उद्घाटन किया गया।
· प्रेम नगर, सदर पहाड़गंज जोन में नगर निगम प्राथमिक विद्यालय की नई बिल्डिंग का उद्घाटन किया गया ।
· अमरपुरी, सदर पहाड़गंज जोन में नगर निगम प्राथमिक विद्यालय की नई बिल्डिंग का उद्घाटन किया गया ।
· ए-4 पश्चिम विहार में नगर निगम प्राथमिक विद्यालय का उद्घाटन किया गया।
· एच.यू ब्लॉक, पीतमपुरा में नगर निगम प्राथमिक विद्यालय की आधारशिला रखी गई।
· ए.सी ब्लॉक, शालीमारबाग में नगर निगम प्राथमिक विद्यालय की आधारशिला रखी गई।
· शालीमारबाग विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत एस.पी ब्लॉक पीतमपुरा में एम.सी प्राथमिक विद्यालय के हॉल का उद्घाटन किया गया एवं स्विमिंग पुल की आधारशिला रखी गई।
पुस्तकालय एवं मनोरंजन केंद्र
पुस्तक पढ़ने में रुचि रखने वाले लोगों के लिए पुस्तकालय के निर्माण पर जोर दिया गया। इस क्रम में अशोक विहार में ‘दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी’ के नये भवन का निर्माण कार्य संपन्न हो गया है और आंतरिक सुविधाओं के लिए कार्य जारी है। इसके लिए दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी को वित्तीय सहायता प्रदान की गई। साथ ही पीतमपुरा के सी-यू ब्लॉक में वरिष्ठ नागरिकों के लिए मनोरंजन केंद्र और आम जनता के लिए पुस्तकालय आदि की भी व्यवस्था की गई है। इसके अलावा पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के समीप मोबाइल पुस्तकालय की योजना के लिए 15 लाख रुपए दिए गए।
सामुदायिक भवन का निर्माणः
•मजनू का टीला
•एमसीडी कालोनी, आजादपुर
•ईदगाह
•सहीपुर, शालीमार बाग
•वर्द्धमान वाटिका, त्रि-नगर
•सी-ब्लॉक, शकूरपुर (आनन्दवास)
•शकूरपुर गांव (निर्माणाधीन)
•रामगढ़, जहांगीर पुरी
•सी.डी ब्लॉंक, शालीमार बाग (निर्माणाधीन)
•कैप्टन सतीश मार्ग, ऋषि नगर
•बी-जी 6, पश्चिम विहार
•कुतुब रोड सदर पहाड़गंज जोन में नवनिर्मित सामुदायिक भवन का उद्घाटन संपन्न
•ए-5 पश्चिम विहार
यातायात व्यवस्था में सुधार कार्य
ट्रैफिक और प्रदूषण से जूझ रही दिल्ली की सड़कों पर यातायात कैसे सुचारू किया जाए ताकि दिल्लीवासियों का आवागमन सुगम हो, साथ ही वाहनों से निकलने वाले धुएं से बढ़ते प्रदूषण पर कैसे रोक लगे, इस विषय पर सड़क परिवहन मंत्रालय के साथ कई बैठक कर योजनाएं बनाई गईं। मेरे संसदीय क्षेत्र में ईस्ट-वेस्ट कॉरिडोर और हैदरपुर वाटर-वर्क्‍स से लेकर प्रेमबाड़ी पुल तक सड़क के निर्माण की योजना के कार्यान्वयन को स्वीकृति प्राप्त हो चुकी है और इस पर त्वरित कार्रवाई हेतु परामर्शदाता नियुक्त किए गए हैं।
ईस्ट वेस्ट कॉरिडोरः
आनंद विहार से पीरागढ़ी तक कॉरिडोर के निर्माण का प्रस्ताव। इसके तहत निजामुद्दीन पुल से पीरागढ़ी तक संपर्क सड़क का निर्माण होगा, जो रिंग रोड, आइटीओ, दीनदयाल उपाध्याय मार्ग, नई दिल्ली रेलवे स्टेशन, अजमेरी गेट, देशबंधु गुप्ता रोड, ओल्ड रोहतक रोड, आनंद पर्बत औद्योगिक क्षेत्र, जकीरा और पीरागढ़ी (लगभग 30 किलोमीटर) से जुड़ेगी। यहां एलवेटेड कॉरिडोर के निर्माण की योजना है जो एनएच 24 और एनएच 10 को जोड़ेगा।
हरियाणा, उत्तर प्रदेश और पंजाब का ट्रैफिक कैसे दिल्ली के बाहर से निकले, उसके लिए भी योजनाएं बनाई गई हैं। इसके साथ ही एक और तीसरा रिंग रोड बनाने का निर्णय भी इस योजना में शामिल है। इसके लिए केंद्र सरकार ने 34,100 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं, जिसमें से 6,000 करोड़ रुपए एनएच 24 पर विकास कार्यों में इस्तेमाल किया जाएगा।
(Updated on June 19th 2018)


=========