PM Modi seeks blessings from his mother on his Birthday///President Addresses Indian Community and Friends of India in Slovenia ////India to achieve USD 26 Billion Defence Industry by 2025: Raksha Mantri////FM hands over restituted 12th Century Buddha statue to Prahlad Singh Patel, ////Celebrating Ayushman Bharat Pakhwara, Dr Harsh Vardhan says:////Russian Oil Giant Rosenoft CEO meets Dharmendra Pradhan///Union minister Prakash Javadekar lambasts Congress////S Jaishankar Launches PhD Fellowship Programme For ASEAN Students At IITs////Design for Divyangjan-accessible toilets showcased in ‘San-Sadhan’ Hackathon///Maharashtra govt to set up cleanliness university///Doordarshan Celebrates 60th Foundation Day////लेह में खुलेगी क्रिकेट स्पोर्ट्स अकादमी : अनुराग////MEA targets Pakistan on terrorism, Kashmir & PoK////
Home | Latest Articles | Latest Interviews |  Past Days News  | About Us | Our Group | Contact Us
राजीव गांधी ने संस्थानों का इस्तेमाल किसी

राजीव गांधी ने संस्थानों का इस्तेमाल किसी को डराने के लिए नहीं किया: सोनिया गांधी


नई दिल्ली: पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 75वीं जयंति पर उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि उनकी कल्पना का भारत अनेकता और एकता को एक साथ रखने वाला भारत था. सोनिया गांधी ने कहा कि राजीव जी ने खेती में भी विज्ञान और तकनीक का उपयोग करके देश को सशक्त बनाया

सोनिया गांधी ने कहा कि राजीव गांधी ने भारत को बुनियादी रूप में मजबूत बनाया. यह उनकी प्रतिबद्धता थी कि युवआों को 18 साल में वोट डालने का अधिकार मिला. यह उन्हीं का सपना था कि पंचायतें मजबूत होनी चाहिए.

उन्होंने कहा कि , न ही संस्थानों का इस्तेमाल किसी को डराने के लिए किया. सोनिया गांधी ने कहा कि नियति ने 28 साल पहले बर्बरता से हमसे छीन लिया, मगर उनकी यादें; उनकी सोच आज भी हमारे साथ है.

सोनिया ने कहा, '1986 में राजीव गांधी जी ने शिक्षा नीति लाकर देश की शिक्षा को नई दिशा दी। राजीव जी द्वारा स्थापित जवाहर नवोदय विद्यालय आज देश का गौरव हैं, जहाँ असंख्य ग्रामीण बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं.'

सोनिया गांधी ने कहा, 'भारत की अर्थव्यवस्था का उदारीकरण और विश्वव्यापी करने का पहला क़दम राजीव जी ने उठाया, मगर वे इस बात के लिए भी सचेत रहे, कि अगर भारत को दुनिया के मंच पर विशेष स्थान हासिल करना है, तो उसे स्वयं समावेशी बनकर रहना होगा। यह काम घमंड दिखाकर, सिर्फ नारे लगाकर नहीं, कर्म और आचरण से करके दिखाना होगा।'(updated on august 22nd, 2019)