Modi says 2019 election was like a 'pilgrimage', thanks NDA allies for good work////Envoys of three Nations present credentials to President of India///NDA confident of winning Lok Sabha election, plans ahead; jittery opposition parleys to come together////EAM Sushma Swaraj embarks on a two-day visit to attend SCO foreign ministers meet in Bishkek ////VP Naidu addresses Convocation of Great Lakes Institute of Management////रामपुर सीट अगर मैंने 3 लाख वोट से नहीं जीती, तो समझना हिंदुस्तान में बेइमानी हुई: आजम खान////EVM विवाद के बीच देर रात अचानक स्ट्रांग रूम देखने पहुंचे दिग्विजय सिंह///BJP chief Amit Shah congratulates 'Team Modi Sarkar' for 5 years, hosts dinner for NDA allies////EC sets up 24-hour Control Room to deal with complaints relating to EVMs///Prasar Bharati to conduct 40th e-auction for allotting DD Free Dish slots to devotional channels////SC dismisses PIL on 100% matching of VVPAT slips with EVMs///Mamata Banerjee can get BJP's Barrackpore candidate killed in encounter, alleges Kailash Vijayvargiya////Kushwaha warns of violence, says will take up gun to save democracy///
Home | Latest Articles | Latest Interviews |  Past Days News  | About Us | Our Group | Contact Us

Detailed Discussion Forum
मेहुल चोकसी की कंपनी को पी. चिदंबरम ने पहुंचाया था फायदा


नई दिल्ली : बीजेपी ने आज सोमवार को कांग्रेस पर बड़ा हमला बोलते हुए देश में हो रहे बैंकिंग घोटालों पर यूपीए सरकार पर सवालिया निशान लगाए हैं. बीजेपी के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा है कि 16 मई, 2014 को यूपीए के वित्त मंत्री ने 7 कंपनियों को गोल्ड स्कीम में एंट्री दी थी. इनमें एक कंपनी मेहुल चोकसी की गीतांजलि भी थी. उन्होंने सवाल किया कि पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम बताएं कि किस के दवाब में उन्होंने इन कंपनियों को नियमों से परे जाकर फायदा पहुंचाया था.
रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम से सवाल किया है कि कांग्रेसी नेता बताएं कि सरकार की गोल्ड स्कीम (80:20 स्कीम) के तहत उन्होंने सात निजी कंपनियों को फायदा पहुंचाया था, जिनमें मेहुल चोकसी की कंपनी गीताजंलि भी शामिल है. प्रसाद ने कहा कि 2013 में 80:20 स्कीम लॉन्च की गई थी. इसको नवंबर 2014 में फिर से लाया गया था. 16 मई, 2014 को जिस दिन इस स्कीम के परिणामों की घोषणा होनी थी, तत्कालीन वित्त मंत्री ने 7 निजी कंपनियों को इस स्कीम में शामिल किया था. उन्होंने कहा कि पी. चिदंबरम का इस कंपनियों पर सीधा आशीर्वाद था. उन्होंने आरोप लगाया कि तथाकथित अर्थशास्त्री प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की देखरेख में ही देश की बैंकिंग व्यवस्था के साथ खिलवाड़ किया गया था.
बीजेपी नेता ने आरोप लगाया कि राहुल गांधी समेत कांग्रेस के तमाम बड़े नेता बिना होमवर्क किए ही सरकार पर सवालों की बौछार कर देते हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी के कार्यकाल में जितने भी लोन दिए गए हैं उनमें अभी तक एक भी एनपीए नहीं हुआ है. जितने भी मामले सामने आ रहे हैं वे सब कांग्रेस के 10 साल के कार्यकाल के दौरान हुए थे. (Updated on March 5th, 2018)

========